Headlines
Loading...
केजरीवाल ने फिर से यमुना सफाई का वादा किया तो लोगो ने सोशल मिडिया पर जमकर लताड़ा | ProIndian

केजरीवाल ने फिर से यमुना सफाई का वादा किया तो लोगो ने सोशल मिडिया पर जमकर लताड़ा | ProIndian

kejriwal press conference over yamuna cleaning

यमुना पर अरविन्द केजरीवाल की 'सफाई': बोले- 70 साल से गंदी यमुना दो दिन में नहीं हो सकती साफ़, बताए छह एक्शन प्लान

केजरीवाल एक बार विरोधियों के निशाने पर है. हाल ही में अरविन्द केजरीवाल ने एक प्रेस कोंफ्रेंस करके दिल्ली वालो को संबोधित किया है की वो आने वाले चुनाव से पहले यमुना को बिलकुल साफ़ कर देंगे और खुद उनसे डुबकी भी लगायेंगे.

केजरीवाल के इस दावे को लेकर लोगो ने उन्हें ट्विटर पर जमकर ट्रोल किया, और उनके द्वारा किये गए यमुना सफाई के वादों के पुराने विडिओ और ट्वीटस को पोस्ट करके ट्वीट करने लगे.

इसके जवाब में लोगो ने अपनी प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया. कुछ लोगों ने तो मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल को गिरगिट तक कहा और एक व्यक्ति ने उन्हें दिल्ली का ठग लिखकर उनका एक पूराना विडियो share किया जिसमे वो 2015 में भी यमुना सफाई का वादा करते हुए दिखाई दे रहे है. हालाकिं साल 2015 से अब ये साल 2021 भी ख़त्म होने वाला है लेकिन केजरीवाल के वादे अभी तक खोखले ही साबित हुए है.

आपको याद होगा की इस समय दिल्ली में वायु प्रदुषण एक गंभीर मुद्दा बना हुआ है. ऐसे में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल हमेशा प्रदुषण को लेकर बयान देते रहते है. केजरीवाल के अनुसार दिल्ली में वायु प्रदुषण के लिए पंजाब और हरियाणा के किसान जिम्मेदार है. किसान लोग फसल होने के बाद पराली को जलाते है जिसका धुआं दिल्ली और आस पास के क्षेत्रों में फ़ैल जाता है, जिससे दिल्ली हर साल गैस चेंबर बन जाती है.

प्रदुषण को लेकर दिल्ली वालों में बहुत गुस्सा है, वो इस प्रकार के झूटे वादों से परेशान हो गए है और खुद को ठगा हुआ महसूस करते है. कुछ साल पहले दिल्ली सरकार प्रदुषण से निपटने के लिए ओड-इवन लेकर आई थी. जिसमे एक दिन ओड नंबर के वाहनों को चलने की इजाजत दी गई थी और अगले दिन इवन नंबर के वाहन दिल्ली की सडकों पर चल सकेंगे.

हालाँकि ये प्रयास भी बेअसर हो गया और आज भी दिल्ली के प्रदुषण की स्थिति जस की तस बनी हुई है.

आपको याद होगा की इस साल दिवाली के आस पास वायु प्रदुषण को कम करने के लिए लोगो से पटाखे ना चलाने की अपील की गई थी, और इस मामले पर सुप्रीम कोर्ट ने भी दिल्ली में सभी प्रकार के पटाखे खरीदने बेचने और इस्तेमाल करने पर प्रतिबन्ध लगा दिया था.

chhath-puja in Yamuna

लेकिन उसके बाबजूद भी दिल्ली की प्रदुषण की स्थिति बदतर होती जा रही है. कई इलाको में AQI 500 से 1000 तक पहुँच गया.

अब आपको बताते है की ये यमुना सफाई पर केजरीवाल को क्यों ट्रोल किया जा रहा है. दरअसल इस साल छठ पूजा के मौके पर दिल्ली के लोगो को यमुना घाटों पर पूजा करने की अनुमति नहीं दी गई थी. उसके बाद दिल्ली की विपक्षी भारतीय जनता पार्टी के नेताओं ने इसके खिलाफ आवाज उठाई. इसमें दिल्ली बीजेपी के कई सांसद और नेता शामिल थे.

इसके बाद लोगो ने छठ के मौके पर जब यमुना घाटों पर पूजा करना शुरू किया, तभी केजरीवाल की इंतजामो की कलई खुल गई. पूरी यमुना में प्रदुषण का आलम ये था की पूरी यमुना जहरीले झाग से भरी पड़ी थी. आपने भी डिजिटल मिडिया और सोशल मीडिया में माध्यम से ऐसी तस्वीरें देखि होंगी.

Yamuna water with foam
अरविन्द केजरीवाल 2015 से लगातार हर साल यमुना सफाई का वादा करते है लेकिन उनकी सरकार द्वारा कोई संतोषजनक काम नहीं किया गया है.

इसलिए जब इस बार मुख्यमंत्री केजरीवाल ने जब फिर से यमुना सफाई का वादा किया तो लोगो ने अपना सारा गुस्सा उन पर निकाल दिया. और लोगों ने केजरीवाल को जमकर लताड़ा.

अब लोगो को इन्तजार है की केजरीवाल जी द्वारा किया यमुना सफाई का ये वादा कब और कैसे पूरा होगा. क्या इस बार भी ये पुराने वादों की तरह रह जायेगा या इस बार कुछ काम होगा. आपका क्या मानना है कृपया कमेंट में बताये.

अन्य खबरों के लिए हमसे फेसबुक और ट्विटर पर जुड़े.

Welcome to Pro Indian - Get the latest news from politics, entertainment, sports, Technology and other feature stories. Also sharing the product review.

0 Comments: